5G क्या हैं| 5G Technology in Hindi

5G से आप क्या समझते हैं? 5G क्या हैं (5G Technology in Hindi) आखिर हमें इसकी जरुरत क्यों हैं.

दुनिया में आये दिन बहुत सारे बदलाव होते रहते हैं. ऐसा ही एक बदलाव Internet की दुनिया में हुआ है. चलिए हम इस पर विस्तार से बात करते है, पहले लोग 1G का इस्तेमाल करते थे, फिर 2G, 3G और अभी हमलोग 4G का इस्तेमाल करते हैं. 5G क्या हैं और 4G के होते हुए हमे 5G की जरुरत क्यों पड़ी? ये सारे सवालों का जवाब हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से देने जा रहे है. 5G एक नया faster network हैं जिसके पास internet को बदलने की क्षमता हैं.

5G में G का मतलब क्या हैं?

Ggeneration of phone technology जैसे पहले हम phone का 1st generation जो 1G use करते थे. फिर phone technology में बदलाव आये तब 2G आया ऐसे ही करते करते 3G और 4G आया. 5G में बहुत कुछ Unique technology हैं. 5G एक Software define Network है इसका मतलब यह पुरी तरह से केबलों की जगह नहीं लेगा, यह बड़े पैमाने पर cloud पर परिचालन करके उनकी आवश्यकता को बदल सकता हैं.

5G Technology in Hindi

5G में 4G की तुलना में 100 गुना क्षमता होगा. जैसे EXAMPLE लेते है, अगर दो घंटे की मूवी को download करना है 3G से तो यह 26hrs लेगा, अगर 4G से download करना है तो 4-6min लेता है. और अगर आप 5G से download करेंगे तो सिर्फ 3.5 seconds में हो जायेगा मतलब सबसे fast सिर्फ आंख झपकाने से ही जायेगा. सोचिये कितना fast है 5G, सोच से भी बाहर है 5G. इससे सिर्फ internet की capacity upgrade नहीं होगी बल्कि response time भी बहुत faster होगा.

4G network = 50millisec 5G network = 1millisec

400* faster than blink of an eye

क्या है 5G तकनीक?

इसके speed का तो अंदाजा हो गया होगा आपको, लेकिन 5G तकनीक है क्या 5G Technology in Hindi के बारे में कुछ बिन्दुवों से आपको समझाने का कोशिश करता हूँ.

  • यह तकनीक mobile phone की 5वीं पीढ़ी की तकनीक हैं.
  • यह 30GHZ से ले कर 300GHZ तक की उच्च आवृति पर काम करेगी.
  • 5G तकनीक प्रदान करती हैं 1GBPS जो 100 गुना ज्यादा 4G से होगी.
  • गति बहुत तेज़ होगी, यह 20GB प्रति सेकंड की स्पीड देगी. Peak data speed होगी.
  • यह तकनीक ,4G तकनीक के अपेक्षा बैटरी को कम consume करती हैं.
  • 5G तकनीक internet protocol version 6 को सपोर्ट करती है.
  • 5G तकनीक Digital economic policy पर OECD समिति के अनुसार GDP में वृद्धि, रोजगार सृजन और अर्थव्यवस्था के Digitalisation में. जो समाज, लोगों, व्यवसाय के लिए अवसर पैदा करेगी.
  • यह Narrowband तकनीक Enhanced Machine type communication (E-MTC) और Narrowband Internet of things (IOT) का उपयोग करेगी.
  • भविष्य में अनुमान लगाया जा सकता है कि 5G तकनीक का इस्तेमाल करके Machine-to Machine communication, self driving cars, Telly surgery में भी सहायक होगी.
  • 5G तकनीक ना ही सिर्फ Robots को control करेगी बल्कि medical devices, industrial equipment और Agricultural machinery चलाने में लाभदयक सिद्ध होगी.
  • अनुमान लगाया जा रहा हैं, भारत में भी जल्द ही आयेगा ये तकनीक वर्ष 2025 तक.

5G के Features

  • 5G में पुराने generation के सारे limitation को दूर करके और बहुत सारे upgradation के साथ तैयार किया गया हैं.
  • 5G बहुत तेज़ गति से काम करेगा दूसरे generation technique की तुलना में.
  • इसमें बहुत कम latency है,
  • 5G ज्यादा से ज्यादा Reliability है.
  • 5G में बहुत बड़ा नेटवर्क क्षमता हैं.
  • इसका Frequency बहुत ही ज्यादा क्षेत्र में फैला होने के कारण यह energy के capacity को बढ़ाएगा. और ज्यादा स्थिर connective network होगा.
  • यह भरपूर coverage देगा.
  • इसका data rate बहुत peak और stable होगा.
  • 4G के तुलना में यह बहुत कम से कम battery consume करेगा
  • उपलब्धता को बढ़ाएगा ज्यादा से ज्यादा.
  • 5G का spectrum भी 4G से अच्छा होगा.

5G काम कैसे करता है (5G Technology in Hindi)

चलिए अब बात करते है 5G काम कैसे करता है और किस तरह से हमें इतनी speed देने में capable होगा. 4G network ज्यादा लोगों के जुड़ने से से काफी congested हो जाता है, जिससे average speed हम लोग को 1-10mbps की और latency 50-100milliseconds की मिलती है, क्योंकि 4G जो spectrum use करता है उसमे fast data transfer की capabilities नहीं होती है. 5G एक जगह में ज्यादा population को handle करने में भी capable होगा.

5G-3 spectrum में काम करता है.

1.Sub 1Ghz(600-700 Mhz)

  • बहुत ही कम speed है, 100 mbps तक
  • बहुत ज्यादा coverage area
  • concrete wall में भी signal पहुँच सकता है
  • यह 4G में भी use होता है, और 5G में भी होगा.

2. Sub 6Ghz(3.7-4.2 Ghz)Mid band spectrum

  • ज्यादा data transfer करने की capacity
  • कम range का होगा
  • 1gbps तक की speed
  • यह 4G भी use करता और 5g भी use करेगा. लेकिन इतना काफी नहीं है, इसलिए Sub 6Ghz में range को बढ़ाने के लिए तकनीकों का इस्तेमाल किया गया हैं जैसे- 1. tower के single balls में antenna 2. Qam-256 3.Beamforming

Sub 6Ghz के 4G को LTE advance कहा जाता है, LTE advance pro को pre 5G कहा जाता है.

3. mm waves(26-30 Ghz)High band spectrum

  • काफी fast data transfer करता है.
  • range काफी कम है.
  • 20 gbps की speed.
  • लेकिन यह दीवारों को पार नहीं कर सकती है.
  • इसके range को बढ़ाने के लिए मौजूदा बुनियादी ढांचा का इस्तेमाल करके जगह-जगह street light, traffic signal और utility poles लगाया जा सकता है.
  • small cell installation होगा outdoor और indoor
  • signal आप तक नहीं पँहुचे इसलिए beamforming, beam tracking और beam stearing जैसे technology का इस्तेमाल किया जायेगा जो आपको track कर direct आपको ही signal देता है.
  • 4G में tower चारों तरफ signal देता है चाहे कोई catcher हो या ना हो पर 5G में beamforming के तहत direct catcher को ही signal दिया जायेगा.
  • Sub 6Ghz की spectrum तक ये 4G से common है. advance 4G भी 5G की spectrum use करती हैं.
  • 5G इतना strong है कि 1 sq.km के range में 10,00,000 devices को handle कर सकता है.
  • मशीन भी 5G का फायदा उठा पाएंगी जैसे smart home remote device control कम power के साथ, traffic को भी handle करेगा.

5G के ज्यादा Ghz spectrum use करने के कारण 5G इंडिया जैसी बढ़ती हुई internet की demand को fast internet में provide कर सकेगा.

क्या 5G बदल देगा आपका जीवन

4G ने हमे सभी सुविधा जैसे message, calls,chats के लिए तेज़ speed दी, लेकिन 5g पृथ्वी से मंगल जाने जैसा है, ये सिर्फ तेज ही नहीं बल्कि बिलकुल अलग ही दुनिया है. इस दुनिया में मशीनें एक दुसरे से बातें करेगी. आपसे बाते करेगी, ये मुमकिन करने के लिए हर जगह antenna लगाने होंगे, ऐसा इसलिए क्योंकि एक साथ लाखो devices connection के इंतज़ार में होगी ताकि एक दुसरे से तालमेल बैठा के हमारी जिंदगी आसान बना सके, इतना सब कुछ hollywood movie में देखते होंगे की सारी machine खुद से काम करती है.

लेकिन 5g की वजह से ऐसा real में भी possible हो सकेगा. यह मशीन बिजली भी कम खपत करेगा, वर्तन और कपडें कब धोने है ये खुद समझ जायेगा, अभी हम मशीन को instruction देते है, कम करने के लिए लेकिन 5g के कारण मशीनें खुद से काम कर देंगी. accidental case भी कम होगा. क्योंकि सभी मशीने cars, bicycle, vehicle आपस में connected होंगे. collision का खतरा कम होगा.

5G का Deployment कब आयेगा भारत में

  • 5g की frequency range 28-100 GHz है. इंडिया जैसे क्षेत्र अभी पुरी तरह तैयार नहीं है 5g network के लिए इसलिए 5g implementation में ज्यादा समय लगेगा.
  • आने वाले समय ने यह भारत में भी आ जायेगा लेकिन सीमित क्षेत्रों में ही होगा. क्योंकि तकनीक को समझने के लिए optical fiber ढांचा अभी तैयार नहीं है.
  • कुछ महीनों में nokia chennai plant से दुनिया के अन्य हिस्सों में 5g उपकरण को export कर रहा है, भागीदारी के लिए production linked incentive का भी योजना बना रहा हैं.
  • e-commerce की top website shopclues.com के founder संदीप अग्रवाल का कहना है कि इस तकनीक को भारत में विकसित करना महंगा है. जबकि चीन ने तकनीक के विकास के लिए लगभग 200 billion dollar की राशि कंपनियों को दे रखा है.

1G से 5G Technology in Hindi का सफ़र

1g से 5g तक का सफ़रinternet की दुनिया में क्रांति जैसा है, आज के दुनिया में मोबाइल के बिना रह पाना नामुमकिन है, मोबाइल फोन के कारण हमारा जीवन आसान हो गया है, हम मीलों दूर भी किसी से बात कर सकते है और अब तो video call से देख भी सकते है. हमें पढ़ने के लिए भी सुविधायें मिली है phone से. quarantine के कारण पिछले साल से सारे बच्चे अपनी पढ़ाई स्कूल न जाकर घर पर रहते हुए भी phone की मदद से कर पाए है.

यह सब मुमकिन हो पाया phone technology के generation से, जो हर generation में advance बन कर आती है. आइए हम बात करते है voice call से ले कर video call तक और internet speed का सफ़र. सन 1877 में alexander graham bell ने telephone का आविष्कार किया था जो की landline था वह सिर्फ voice से connect करता था लोगों को. लेकिन हमारा generation 1g से start होता है.

1G

  • 1980 में developed हुआ था.
  • Analog system पर आधारित था.
  • इसकी speed 24 kbps थी.
  • सिर्फ voice call कर सकते थे.
  • सिर्फ 1 ही country में.
  • सबसे पहले अमेरिका में पेश किया गया था.
  • बैटरी लाइफ ख़राब थी.

2G

  • 1990 में launch हुआ.
  • Digital system पर आधारित था.
  • इसकी speed 64 kbps
  • voice call और sms सुविधा थी.
  • wireless था.
  • सबसे पहले फिनलैंड में launch किया गया

2.5G

  • यह 2g और 3g के बिच का generation था
  • gprs data capability , handset के साथ
  • लेकिन यह system fail हो गयी, नहीं चली.

3G

  • launch हुई 2000 में
  • speed 125kbps- 2mbps
  • pocket switching technology थी.
  • Roaming भी था.
  • speed भी ठीक था
  • voice call, video call(mms) 3d game available था.

4G

  • 2010 में आया
  • बहुत तेज़ गति-100 mbps
  • easy roaming
  • low cost

5G

  • speed 1 gbps कोई लिमिट नहीं है speed में.
  • बहुत तेज़ गति है 10 times faster
  • cost भी कम होगा.
  • 5g फोन में ज्यादा security भी होगा.

Advantage of 5G Technology in Hindi

  • Non-ionizing frequency
  • faster speed और low latency सबसे बड़ा advantage है 5g का.
  • यह हमारे देश के digital growth को भी बढ़ाएगा जो की सिधा जीडीपी पर असर होगा.
  • 5g से हम weather forecast भी कर सकते है.
  • विश्व स्तर पर सुलभ है.
  • गतिशील जानकारी पहुंचता है.
  • यह mobile broadband को उच्च coverage आवश्यकताओं के साथ बढ़ावा देता है.
  • 5g के मदद ए मशीन भी इस टेक्नोलॉजी का लाभ उठा पायेंगे.
  • यह कृत्रिम बुद्धिमत्ता का समावेश करता है.
  • यह internet of things (IoT) का सुविधा प्रदान करेगा.
  • यह विकास, उत्पादों के सुधार पर spectral efficiency services को सिद्ध करेगा.
  • इसमें video buffering ना के बराबर होगा.
  • ज्यादा bandwidth के साथ ज्यादा तेज़ speed होगी.

Disadvantage of 5G Technology in Hindi

  • जब तक यह तकनीक launch नहीं होगी तब तक clear कहना कठिन हैं.
  • Research में पता चला है की 5g नेटवर्क पर phone सुरक्षित तरीके से cellular नेटवर्क से connect नहीं हो पायेगा.
  • 5g airwaves के जरिए hackers users के data को आसानी से hack कर सकते है. और cell phone से कई personal document को भी hack कर सकते है.
  • hacking के मामले बढ़ेंगे.
  • coverage की परेशानी होगी.
  • Radio frequency अच्छा नहीं होगा 5g का.
  • Birds, animals पर बुरा प्रभाव पड़ेगा, electro magnetic radiation के कारण.

इसे भी पढ़े: टेक्नोलॉजी क्या होता है ?

इसे भी पढ़े: Social Media in Hindi

FAQ

what is 5g mobile technology

5G mobile technology एक 5th generation technology है, जो faster speed और low latency इसका सबसे बड़ा advantage है. यह internet of things (IoT) का सुविधा प्रदान करेगा.

5g mobile phones in India

आपको 3 best 5g mobile phones बताऊंगा
ONEPLUS NORD
MI 10T PRO
ONEPLUS 8 PRO

5g कब लॉन्च होगा इंडिया में

5g लॉन्च का कोई फिक्स डेट नहीं है लेकिन jio company के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा है 2021 के तिमाही तक वे 5g नेटवर्क को भारत में लॉन्चलौंच कर देंगे.

निष्कर्ष

आज अपने सिखा की 5g तकनीक क्या है और ये कैसे काम करता है. और इसके आने से हमारी लाइफ और कितना advance हो जाएगा, लेकिन भारत में ये अभी तक ये technology आई नहीं है लेकिन जल ही भारत में भी यह टेक्नोलॉजी आ जाएगी. अगर आपको भी 5g टेक्नोलॉजी के बारे में कुछ जानकारी हो हमसे साझा जरुर करें उसे हम अपने पोस्ट में शामिल करेंगे. 5G Technology in Hindi पोस्ट पढ़ कर अगर आपको कुछ जानकारी प्राप्त हुई है तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. धन्यवाद!

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,982FansLike
2,997FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles